Thursday, August 29, 2013

देश आई ई कानि रहल अछि

                                                                   पिछरि- पिछरि क खसय रुपैया
                                                                   महगी करबय ताता - थैया
                                                                   अर्थशास्त्र केर बड़का बड़का
                                                                   पंडित के ने गुदानि रहल अछि
                                                    देश आई ई कानि रहल अछि


बलात्कार केर प्रतिदिन घटना
मुंबई, दिल्ली वा हो पटना
धंसल वासना केर दलदल में
लोक, लाज नहीं मानि रहल अछि
                   देश आई ई कानि रहल अछि


                                                                   नेता सब भेल चोर-उचक्का
                                                                   तें उतरल अछि देशक चक्का
                                                                   लुटबा लेल छुटपुजियो नेता
                                                                   सब क्यौ समय अकानि रहल अछि
                                                   देश आई ई कानि रहल अछि


आई समस्या देश सुरक्षा
वृहन्नला की करतै रक्षा
अपनहिं कुर्सी बचबS खातिर
कूदि रहल अछि, फानि रहल अछि

Tuesday, August 20, 2013

क्रान्ति

हम आब नेना नहिं रहलहुं
शोणित नब वेग सँ बहि रहल अछि
देशक समस्या
हमर समस्या बनि गेल अछि
सोचल जे
"क्रान्ति" करब
लाठी खायब
धरना देब
जे बनि पड़त  से करब

मुदा तखने स्मृति
सागरक लहरि जेकाँ
आबि हमरा भिजा जाइत अछि

मन पड़ैत  अछि
बाबा-बाबीक सजल आंखि
माइक दवाई केर खाली शीशी
बाबूक कर्ज
बहिनक बियाह लेल
ओरियानक नाम पर
राखल मनोरथ

आ हम अपन
"क्रान्ति" के चौपेति
अपन जेबी में राखि लैत छी 

Friday, August 16, 2013

जिनगी, शह आ मात

पेट जखन
भारी पड़ल
प्रेम पर
त' डेग स्वतः
निकलि गेल
दानाक ताक में

ट्रेन छोड़ैत गेल
स्टेशन
आ छूटल गेल
अपन
माटि-पानि , गाछ-वृच्छ
घर-दुआरि , संगी-साथी
भाय-बहिन, माय-बाप
बाबा-बाबी

संग रहि गेल
मनक पौती में
ओरिआओल
स्मृति मात्र

समय अपन चालि चलि देलक अछि
आ हम
जिनगीक देल गेल "शह" सँ
अपन "मात" बचयबाक चालि सोचि रहल छी